Friday, May 29, 2015

नामान्तर के मौके जयपुर इंटरसिटी की बात

बीकानेर-जयपुर इंटरसिटी आज से लीलण एक्सप्रेस के नाम से चलेगी। महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक के नाम पर चेतक एक्सप्रेस चलती ही है। लोक देवता तेजाजी की घोड़ी लीलण के नाम से भी एक रेलगाड़ी हो जायेगी। चेतक हो या लीलण, इनको याद करना अब राष्ट्रीय से ज्यादा जातीय आत्ममुग्धता हो गया है, यानी ज्यों-ज्यों हमारा दिखावा आधुनिक होता जा रहा है त्यों-त्यों हमारा मन सिकुड़ता जा रहा है। बीकानेर के सांसद अर्जुनराम मेघवाल बीकानेर-चैन्नै एसी एक्सप्रेस का नाम अणुव्रत एक्सप्रेस करवाने का रेलवे से आश्वासन लेने भर से अपना अभिनन्दन करवा चुके हैं। मेघवाल के सन्तोष का चरम बिन्दु है भी इतना ही। पता नहीं दक्षिण की किसी संस्था ने उन्हें इस बार भी श्रेष्ठ सांसद के रूप में चुना या नहीं लेकिन कवायद उनकी कुछ करने की बजाय, बिना कुछ किए हासिल करने की रहती है।
लोक देवता वीर तेजा को जाट समुदाय ने अपने जातीय देवता के रूप में लगभग स्थापित कर लिया है। वैसे देवता समुदाय विशेष के होते नहीं हैं। नागौर के सांसद सीआर चौधरी हमारे सांसद अर्जुनराम की तरह उतावले नहीं हैं। उन्होंने पूरी प्रक्रिया के बाद अधिकृत तौर पर रेलवे से ही केवल नामान्तरण की घोषणा करवाई बल्कि आज यह गाड़ी इसी नाम से रवाना भी हो गई है। उल्लेखनीय है कि यह गाड़ी नागौर होकर जयपुर आती-जाती है। इस नामकरण के बाद सांसद सीआर चौधरी की ही अब यह जिम्मेदारी भी हो गई है कि सुपरफास्ट एक्सप्रेस के दर्जे की तरह इसका संचालन भी करवाएं।
बीकानेर-जयपुर इंटरसिटी एक्सप्रेस में इंटरसिटी जैसे तीव्रता के बैनर के साथ यात्रियों से सुपरफास्ट का किराया वसूला जाता है। लेकिन जिस तरह यह चलती है, खासतौर से मेड़ता रोड और जयपुर के बीच, उस तरह से इसका किराया सवारी गाड़ी जितना ही होना चाहिए।
यह गाड़ी जब शुरू हुई तब यहां से प्रात: पांच बजे रवाना होती और ग्यारह पैंतालीस बजे जयपुर पहुंचकर ऐसे ही रेंगती हुई लगभग साढ़े तीन बजे जयपुर से रवाना होकर साढ़े दस बजे बाद बीकानेर लौटती थी। इंटरसिटी नाम को वह तब भी सार्थक नहीं करती थी। इंटरसिटी की अवधारणा ये है कि छोटे से बड़े शहर जा, काम निबटा कर एक ही दिन में लौट आया जाय। यह गाड़ी जिन स्टेशनों से गुजरती है, उनमें एक भी स्टेशन बीकानेर रेल मंडल का नहीं, अधिकांश स्टेशन जोधपुर रेल मंडल के हैं। जोधपुर रेल मंडल वाले इतने स्वार्थी हैं कि अपनी सुविधाओं को हासिल करने के लिए दूसरों की सुविधाओं का लिहाज नहीं करते। जयपुर-बीकानेर इंटरसिटी इसका साक्षात् उदाहरण है।
जोधपुर से सुबह छह दस पर एक इंटरसिटी जयपुर के लिए चलती है। जब बीकानेर वाली इंटरसिटी यहां से चलती थी तो अकसर ऐसा होता था कि बीकानेर वाली इंटरसिटी मेड़ता रोड स्टेशन पर जोधपुर वाली इंटरसिटी से पहले पहुंचती थी लेकिन हमेशा वहां से पहले रवाना जोधपुर वाली इंटरसिटी को किया जाता था। दूसरी बात तब मेड़ता रोड और जयपुर के बीच के स्टेशनों के ठहराव दोनों गाडिय़ों के लिए आधे-आधे बांटे हुए थे। धीरे-धीरे इनमें से अधिकांश ठहरावों को बीकानेर इंटरसिटी के जिम्मे कर दिया। इतना ही नहीं, पिछले एक अरसे से रही सही कसर भी बीकानेर इंटरसिटी का यहां से रवानगी का समय छह बजे करके पूरी कर दी। बारह पैंतीस पर जयपुर पहुंचकर तीन बजे रवाना होने वाली यह गाड़ी बस नाम की ही इंटरसिटी रह गई। असली इंटरसिटी तो जोधपुर वाली ही कहलाएगी जो सुबह छह दस पर रवाना होकर दस पचास पर जयपुर पहुंचती है और शाम छह बजे जयपुर से रवाना होकर साढ़े दस बजे जोधपुर लौट आती है। उल्लेखनीय है कि जयपुर-बीकानेर की वाया मेड़ता रोड दूरी जयपुर-जोधपुर की वाया मेड़ता रोड की दूरी से मात्र 51 किलोमीटर ही ज्यादा है जबकि बीकानेर वाली इंटरसिटी जोधपुर वाली इंटरसिटी से 1 घंटा 55 मिनट ज्यादा लेती है।
कुछ साल पहले मेड़ता रोड स्टेशन पर बीकानेर वाले टे्रक पर बाइपास का निर्माण हो गया, जिसका मकसद बीकानेर से जयपुर की ओर जाने वाली गाडिय़ों के इंजनों की दिशा बदलने की जरूरत समाप्त करना था। तब उम्मीद बनी थी कि कम से कम इस इंटरसिटी का आधा घण्टे का समय इस कवायद में खराब नहीं होगा। लेकिन अब तर्क यह दिया जा रहा है कि इस गाड़ी से मेड़ता रोड उतरने वाले यात्रियों का क्या होगा। इसका जवाब ये है जिन्हें मेड़ता रोड उतरना है वे इसके तुरन्त बाद बीकानेर से चलने वाली सवारी गाड़ी से यात्रा करें।
अपने सांसद अर्जुनराम मेघवाल से अनुरोध है कि वे दिखावा करना अब तो छोड़ें और नागौर सांसद सीआर चौधरी से प्रेरणा ये लें कि काम को चुपचाप अंजाम तक कैसे पहुंचाया जाता है। और कुछ नहीं तो इस लीलण एक्सप्रेस के इंटरसिटी दर्जे का ही हक अपने इलाके के यात्रियों को दिलवाएं।
यह गाड़ी पुन: बीकानेर से पांच बजे चले और मेड़ता रोड से बाइपास निकलकर बाद के आधे स्टेशनों पर ठहराव खत्म करवा जोधपुर इंटरसिटी के जिम्मे करवाएं और इसे ग्यारह-पौने ग्यारह बजे तक जयपुर पहुंचने का टाइम टेबल बनवाएं और लौटने में भी इसे जयपुर से साढ़े चार बजे रवाना करवाया जाना चाहिए।

29 मई, 2015

2 comments: