Thursday, May 27, 2021

ऐसे थे स्वामी संवित् सोमगिरिजी

बीकानेर के शिवबाड़ी में उजाड़ पड़े लालेश्वर महादेव मन्दिर परिसर स्थित शिवमठ की लगभग साढ़े छह वर्षों से खाली पड़ी महन्त गद्दी सम्भालने की हां स्वामी संवित सोमगिरिजी ने भरी तो इस परिसर के साथ लगाव रखने वालों की आस्था उल्लासित हुई। 20 नवम्बर 1994 में उन्होंने यह जिम्मेदारी संभाली। बीकानेर में ही पले-बढ़े जीवनराम (संन्यास पूर्व नाम) मैकेनिकल इंजीनियरिंग की कक्षाएं लेते-लेते विरक्त हुए और स्वामी ईश्वरानन्दजी गिरि से दीक्षा लेकर विज्ञान से अध्यात्म की ओर प्रवृत्त हो लिए। 

छात्र जीवन में कविताएं लिखने वाले जीवनराम से यहां के साहित्यिक क्षेत्र के अनेक लोग परिचित थे। शिवमठ के महंत बनने पर उन्हीं में से एक कवि-नाटककार नन्दकिशोर आचार्य ने जिज्ञासा रखी कि संन्यासी होने के बाद महंत होना प्रबन्धकीय पचड़ों में फंसना नहीं है? सोमगिरिजी ने उत्तर दिया कि उनके जीवन की पहली आध्यात्मिक अनुभूति मुझे इसी मन्दिर में हुई थी, जब इसी परिसर स्थित मठ की जिम्मेदारी का प्रस्ताव मिला तो मैंने प्रसाद समझकर ग्रहण कर लिया। 

सोमगिरिजी की शोभा सुन चुका था इसलिए उनके बीकानेर लौटने पर उन्हें सुनने की उत्सुकता जगी रही। जल्द ही अवसर भी आ गया। 1995 की अक्षय तृतीया को परशुराम जयंती थी। बीकानेर के सर्व विप्र समाज ने रानी बाजार स्थित गौड़ सभा भवन में सोमगिरिजी का उद्बोधन रखा। वर्ग विशेष का आयोजन होने के बावजूद डॉ. श्रीलाल मोहता से चर्चा की और दोनों ने जाना तय कर लिया। गौड़ सभा भवन के खचाखच भरे प्रांगण में बैठने का स्थान नहीं बचा सो हम किनारे खड़े हो गये। उस एक में मैं बाहरी कुछ लोगों की नजर में आया भी, लेकिन ना वे मुखर हुए और ना मैंने संज्ञान लिया। सोमगिरिजी ने प्रवचन शुरू किया-उपस्थितों की आकांक्षाओं के उलट उन्होंने बजाय विप्र-गौरव या विप्र हित की बात करने के, उन्होंने सामाजिक समरसता की जरूरत बताते हुए समाज में दबे-कुचले वर्गों को बराबरी का सम्मान देने की बात की, सर्व समाज के कल्याण की बात की। स्वामीजी का पूरा प्रवचन इसी लय में था। मैं और डॉ. श्रीलाल मोहता इशारों में एक दूसरे को आश्वस्त करते रहे कि हमारा आना सार्थक हुआ। जैसी उम्मीद थी, स्वामीजी वैसा ही बोले।

हमारे बचपन और किशोरवय में शिवबाड़ी का मन्दिर परिसर हरा-भरा और सुव्यवस्थित था। वह वर्षों से बिना महन्त के उजाड़ और जर्जर होने के कगार पर था। स्वामी सोमगिरिजी के आते ही परिसर स्पन्दित होने लगा। 'राजकीय प्रत्यक्ष प्रभार श्रेणी' में होने के बावजूद स्वामीजी ने इस परिसर को 'सुपुर्दगी श्रेणी' का मानकर वर्षों तक लगातार ना केवल मरम्मत का काम चलाया बल्कि पौधारोपण के साथ-साथ दूब के मैदान भी विकसित किये। श्रद्धालुओं की रौनक बढ़ते-बढ़ते मन्दिर परिसर अपने पुराने वैभव को लौटा लाया। हालांकि आगौर क्षेत्र में कॉलोनियों की बसावट से शिवबाड़ी तालाब इन वर्षों में लबालब कभी नहीं हुआ।

गांव से शहरी बस्ती बना दलित-बहुल शिवबाड़ी के दलित बाशिन्दों ने अपने क्षेत्र के मन्दिरों में प्रवेश का कभी सोचा नहीं होगा। लेकिन सोमगिरिजी के आने के बाद उन्हें ना केवल मन्दिर में प्रवेश के लिए प्रोत्साहित किया गया बल्कि मठ की गद्दी वाले भवन में बैठकर प्रवचन सुनने की छूट दलितों को दी गयी। शाम के नियमित आयोजनों में शिवबाड़ी के दलित शिरकत करने लगे। बस्ती में लालेश्वर-डूंगरेश्वर महादेव मन्दिर के अलावा दो भव्य मन्दिर और भी हैं—एक जैन मन्दिर और दूसरा लक्ष्मीनाथ मन्दिर, लेकिन दलितों को ससम्मान प्रवेश सोमगिरिजी के बाद शिवबाड़ी मन्दिर में ही मिला।

और यह भी कि मठ परिसर में प्रवास के नियमों में सोमगिरिजी ने लिखवा दिया कि कोई प्रवासी साधु-संन्यासी, पंडित मन्दिर परिसर में रहते तंत्र-मंत्र-ज्योतिष की बात नहीं कर सकेगा। स्वामीजी संकीर्णता और कट्टरपन को पसंद नहीं करते थे, संघी पठन सामग्री (तब सोशल मीडिया नहीं आया था) पढऩे वाले की जानकारी उन्होंने मुझे बड़ी हिकारत से दी।

ऐसी ही तकलीफ स्वामीजी ने एक बार और जाहिर की। लालेश्वर और डूंगरेश्वर महादेव मन्दिर को राजकीय प्रत्यक्ष प्रभार श्रेणी से सुपुर्दगी श्रेणी में लाने के लिए स्वामीजी ने हर तरह से प्रयास किये। वर्ष 2007-08 की बात है। स्वामीजी के एक प्रकल्प 'मानव प्रबोधन प्रन्यास' के ट्रस्टी सूबे से संबंधित मंत्री से इस बाबत मिले। मंत्रीजी के आदमी ने एक बड़ी रकम की मांग की। ट्रस्टियों ने इस बिना पर स्वामीजी को तैयार कर लिया कि इस रकम को हम जुटायेंगे, आप तो बस हां कर दो। स्वामीजी ने मन मसोज कर एक बार तो हां कर दी। ट्रस्टी रकम लेकर जयपुर के लिए एक सुबह रवाना भी हो गये, लेकिन स्वामीजी की आत्मा इसे स्वीकार नहीं कर पा रही थी, उक्त ट्रस्टी को फोन करके बीच रास्ते सीकर से वापस बुलवा लिया। स्वामीजी ने इस वाकिये का जिक्र करते हुए कहा कि देखो—हिन्दू हित की बात करने वाली पार्टी के मंत्रियों की यह स्थिति है कि मन्दिर को भी नहीं छोड़ते।

एक दिन मैं दर्शन लाभ के लिए शिवबाड़ी गया तो स्वामीजी मठ परिसर में नहीं थे। पता लगा कि पीछे कुएं की तरफ गये हैं। वे वहां टैंकर भरने की पर्चियां काट रहे थे। मैं पहुंचा तो स्वामीजी ने अपनी समस्या बतायी कि क्या करूं आज पर्ची काटने वाला नहीं आया। मन्दिर परिसर में पिस्टल शूटिंग रेंज के माध्यम से युवकों को निशानेबाजी का प्रशिक्षण दिया जाने लगा। यहां से प्रशिक्षित युवकों ने नेशनल तक नाम कमाया। लेकिन देवस्थान विभाग ने इस तरह की गतिविधियों पर एतराज जता दिया। आखिर संवित् शूटिंग संस्थान के लिए दूसरी जमीन लेकर रेंज वहां विकसित करनी पड़ी।

सरकारी होने के बावजूद मन्दिर-मठ की लम्बी चौड़ी सम्पत्तियों की सार-संभाल की प्रबन्धकीय और अदालती पेचीदगियों के चलते स्वामीजी अपने अलग तरह के आचार-व्यवहार को लम्बे समय तक साध नहीं पाए। जिसकी एक बड़ी वजह यह कि जिन समान विचार के लोगों से वे यह उम्मीद करते थे कि समय देकर मन्दिर-मठ व्यवस्था और आयोजनों में सहयोग करेंगे, उनमें से कोई भी उनकी उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा। हुआ यह कि जिस तरह के लोग मन्दिर-मठ से जुड़े उनकी अपनी सोच के दबाव भी कम नहीं थे वहीं रोजमर्रा के राजकीय झंझटों से मुक्ति के लिए मन्दिर को 'सुपुर्दगी श्रेणी' में लाने के प्रयासों  के चलते स्वामीजी अपने व्यवहार को सहयोगियों की अनुकूलता अनुसार ढालने लग गये। इसी वजह से स्वामीजी की सोच में भी बदलाव आने लगा।

बावजूद इन सबके मन्दिर भूमि पर लगातार नवनिर्माण, जीर्णोद्धार और चारदिवारी-तारबन्दी करके पड़े-पौधों से पूरे परिसर को हरा-भरा और भव्य बनाने में स्वामीजी लगे रहे। सहयोगियों की संगत और सोशल मीडिया पर फैलाये जा रहे साम्प्रदायिक झूठ से स्वामीजी प्रभावित होने लगे। पांच-सात वर्ष पूर्व की बात है, मैं स्वामीजी के एक प्रवचन में गया हुआ था। वह पूरा प्रवचन बजाय आध्यात्म के तथाकथित हिन्दुत्वी था। स्वामीजी को लगने लगा हिन्दू धर्म पर जबरदस्त खतरा मंडरा रहा है। उन्होंने कहा कि असम में 3 करोड़ बांग्लादेशी घुसपैठिये आ गये हैं और वे वहां की धर्म-संस्कृति को नष्ट-भ्रष्ट कर रहे हैं। इन प्रवचनों बाद एक दिन मैं सेवा में गया तो पूछ बैठा, महाराज यह तीन करोड़ घुसपैठिये वाला तथ्य सही नहीं, कहां से आया। इधर-उधर देखते हुए स्वामीजी बोले कि सभी कह रहे हैं। जबकि तब असम की कुल जनसंख्या ही ढाई से पौने तीन करोड़ थी। उसके बाद केन्द्र और असम दोनों जगह आई भाजपा की सरकार के चलते वहां एनआरसी (नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन) करवाई गयी। एनआरसी के आंकड़ों के अनुसार वहां घुसपैठिए 19 लाख के लगभग ही निकले जिनमें मुस्लिम घुसपैठिये 5 से 6 लाख के बीच ही हैं, शेष में से 12 लाख हिन्दू और कुछ अन्य।

झूठ का जहर जिस तरह चढ़ता है उसका एक और उदाहरण साझा करना चाहूंगा। 7-8 वर्ष पूर्व की बात होगी, स्वामीजी के गुरु श्री ईश्वरानंदजी का शिवबाड़ी मन्दिर परिसर में प्रवचन था। उनकी शोभा के आकर्षण में सुनने जाना ही था। ईश्वरानंदजी का आध्यात्मिक प्रवचन सुनकर अभिभूत हुआ। 

कुछेक वर्ष पूर्व ईश्वरानंदजी का बीकानेर फिर पधारना हुआ। स्थानीय पार्क पैराडाइज में प्रवचन रखा गया। अपने उसी जिज्ञासु भाव से मैं प्रवचन सुनने गया, जो भाव उनके पिछले प्रवचन से पल्लवित हुआ था। लेकिन वहां क्या सुनता हूं कि ईश्वरानन्दजी भी बजाय अध्यात्म के धर्म-संस्कृति पर खतरे की तर्ज पर ही बोले—नोर्थ ईस्ट के हवाले से उनका पूरा भाषण सोशल मीडिया के झूठ से संक्रमित था। उस दिन मैं बहुत निराश हुआ।

इस तरह बनायी और घड़ी गयी परिस्थितियां विचार में, व्यवहार में जिस तरह बदलाव लाती हैं, वह संन्यास के साधना मार्ग में विचलन पैदा करती ही है। यहां तक 2017-18 में स्वामी सोमगिरिजी मध्यप्रदेश सरकार के बुलावे पर दल विशेष द्वारा प्रायोजित धार्मिक आयोजनों के संयोजन में लग गये। स्वामीजी के विचार-व्यवहार में आए परिवर्तन से समझ में आ गया कि महन्त जैसे प्रबन्धकीय पद को ग्रहण करने पर श्री नन्दकिशोर आचार्य ने शंका क्यों प्रकट की थी।

मन्दिर परिसर को सुपुर्दगी श्रेणी में करवाने की स्वामी सोमगिरिजी की उत्कट इच्छा में आस्था के चलते स्वामीजी के बिना कहे देवस्थान विभाग में पदारूढ़ अपने परिचित आयुक्त से जयपुर सचिवालय में मिला और जानना चाहा कि प्रत्यक्ष प्रभार से सुपुर्दगी श्रेणी में करने पर सरकार को एतराज क्यों है, जबकि स्वामीजी ना केवल भले हैं बल्कि पूरे परिसर की देखभाल बहुत संजीदगी से कर रहे हैं। उन्हें यह भी बताया कि स्वामीजी के मठ संभालने से पूर्व मन्दिर परिसर की इतनी लम्बी-चौड़ी जमीन पर कब्जे होने लगे थे। आयुक्त महोदय ने कहा 'सांखलाजी अभी तो सोमगिरिजी हैं, भले हैं। बाद में कौन किस तरह के लोग आते हैं, क्या पता। देवस्थान विभाग की सम्पत्तियों के साथ क्या-क्या नहीं हो रहा, आपको पता ही है।'

अब जब स्वामीजी नहीं रहे तो उनके उत्तराधिकारियों से यह उम्मीद की जाती है कि वे ना केवल स्वामी सोमगिरिजी की मूल (प्रारंभिक) भावना को चेतन रखेंगे बल्कि उक्त आयुक्त महोदय की आशंकाओं को भी निर्मूल साबित करेंगे। इतना ही नहीं, जिस परिसर को स्वामीजी ने अपनी साधना की कीमत पर रात-दिन चमन बनाये रखा, उसे भी क्षीण नहीं होने देंगे। एक बात और स्वामीजी ने इस गद्दी पर आसीन होने के बाद कितने तरह के लोगों को जोड़ा और परोटा उसी भावना के साथ ना केवल उन सभी को जोड़े रखना, नये-भले और सच्चे लोगों को और जोडऩा कम चुनौतीपूर्ण नहीं है।

स्वामीजी से मिले सान्निध्य की अनुभूतियां तथा अनुभव और भी अनेक हैं लेकिन इस बार इतना ही...

—दीपचन्द सांखला

27 मई, 2021

No comments: